luti gaeni yari me prem ke bemari me लूटी गईनी यारी में प्रेम के बेमारी में - Bhojpuri best

Latest

Best bhojpuri songs, bhajans, geet lyrics with images and video. Bhojpuri jokes, stories, shayari and much more. Geet by sharda sinha, khesari lal yadav, bharat sharma, Pawan singh, manoj tiwari and more.

Monday, March 18, 2019

luti gaeni yari me prem ke bemari me लूटी गईनी यारी में प्रेम के बेमारी में

luti gaeni yari me prem ke bemari me


लूटी गईनी यारी में ,प्रेम के बेमारी में।





बिना तरईन के , चान न होला , बिना सूरज के धाम ना होला।

प्रेमी भलही पुराना हो जाला , बाकी प्रेम कबहु  पुराना न होला।


लूटी गईनी यारी में , प्रेम के बेमारी में।

लूटी गईनी यारी में , लूटी गईनी यानी में ,

प्रेम के बेमारी में , लूटी गई नी यारी में , प्रेम के बेमारी में।

जब नैना चार हो गईल , अचके  में प्यार हो गईल ,

नैन छुरी से कटारी हो गईल , नैन छुरी से कटारी हो गईल।

रुप के दुनिया पुजारी हो गईल , केहू जब नजरिया में बस जाला ,

तो जान जाई प्रेम के पुजारी हो गईल।

जब नैना चार हो गईल , अचके के में प्यार हो गईल।

वादा कईके बतावा टरीके तरे , वादा कईके बतावा टरीके तरे।

उनका नेकी के करजा भरी के तरे , बात उनसे बतौला में सरम लागेला

प्यार में उनके नाहीं करी के तरे

जब नैना चार हो गईल , अचके  में प्यार हो गईल ,

जब नैना चार हो गईल , अचके  में प्यार हो गईल ,

मिलेके ..... मिलेके , मिलेके करार हो गईल ,घर के पिछुवारी  में।

मिलेके ..... मिलेके , मिलेके करार हो गईल ,घर के पिछुवारी  में।

लुट गईनी  यारी में प्रेम के बीमारी में।




बात गोरी उसुकाईके , धीरे से मुस्काईके ,

प्यार के बूंद जो बरस देत ,प्यार के बूंद जो बरस देत

रूप के बाह में जो कस देत , ईसब महफिल जवान होजाई

तनीको खुलके जो हंस देत

बात गोरी उसुकाईके , धीरे से मुस्काईके ,

बात गोरी उसुकाईके , धीरे से मुस्काईके ,

केस गोरी , केस गोरी केस गोरी बिखराईके

भगली  उ अटारी में ,

केस गोरी , केस गोरी केस गोरी बिखराईके

बगले अटारी में लूट गईनी यारी में प्रेम के बीमारी में

भगली  उ अटारी में ,

लुट गईनी  यारी में प्रेम के बीमारी में।





मोनहा में बांध ली की पिटोरा में बांध ली ,मोनहा में बांध ली की पिटोरा में बांध ली ,

असमन करे  रूप तोहारा सिन्होरा में बांध ली।

एक दिन अकेला में आँख चार जब होगईल

त मन कईल लपक के कोरा में बांध ली ,

वादा अनेर करेलु , रोजे अबेर करेलु , वादा अनेर करेलु , रोजे अबेर करेलु

आईल जब सुननी त धड़कन धधाई ,आईल जब सुननी त धड़कन धधाई

लौकी सुरतिया त मनवा अघाई , देखके चकोरी के चंदा लजा जाला।

कहिया ला केहू पिरितिया से छिपाई

वादा अनेर करेलु , रोजे अबेर करेलु ,

तू तकब्बु  त के ना मर जाई ,तू तकब्बु  त के ना मर जाई ,

आंख में जादूबा के  ना हहरजाई , अभी जुड़ा खुल जन रहेद

नत नागिन के नाम बिसर जाई

वादा अनेर करेलु , रोजे अबेर करेलु , वादा अनेर करेलु , रोजे अबेर करेलु

आवे में , आवे में , आवे में देर करेलू,  कवन  तू लचारी में

आवे में , आवे में , आवे में देर करेलू,  कवन  तू लचारी में।

लुट गईनी  यारी में प्रेम के बीमारी में।



मन के अड़ईब न  त अडी  न ,मन के अड़ईब न  त अडी न ,

बिना इशारा के अखियां लड़ी न , अरे प्यार बरियारी न होला।

जबले सुरतिया  दिल में गड़ी न ,

तनी घुंघटा उठाके  देख , तनी घुंघटा उठाके  देख

देख त लुकाके देख , दिल के बात दिले में रहे द

बड़ा आनंद आइ तनी सरमा के देख

 सत्येंद्र से कहीद राजू का हां कही द ,

तिरछी नजरिया के बान जन मारअ ,तिरछी नजरिया के बान जन मारअ

जिए द जान जन मारअ , आंख गदके इन जन देखअ

लोग देखली सान जान मारअ ,

दिया बुताईदि अंजोर जन करि ,दिया बुताईदि अंजोर जन करि

मुँह से बोरी झकझोर करी

हम निहरी निहोरा करतानी , हमर बात मानी तनी सुतेदी बला जोर जान करी ,

सत्येंद्र से कहीद राजू का हां कही द ,

हमरा गीत के रवानी होउ ,हमरा गीत के रवानी होउ ,

एह किताब के कहानी हउ , हम दुनिया से साफ-साफ देलेबानी तू ही हमार जवानी हउ

सत्येंद्र से कहीद राजू का हां कही द ,सत्येंद्र से कहीद राजू का हां कही द ,

भरत , भरत , भारत जहां कहीद रहब  इंतजारी में , भरत , भरत , भारत जहां कहीद रहब  इंतजारी में ,

लूट गईनी यारी में , प्रेम की बीमारी में , प्रेम की बीमारी में , प्रेम की बीमारी में   .....................


No comments:

Post a Comment